Lips: होंठो को कैसे बनाएं स्वस्थ, सुन्दर और गुलाबी

hoto ka kalapan dur karne ke upay

यूँ तो सर्दी का मौसम स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम होता है परन्तु अक्सर सर्दियों के मौसम में होंठ फटने का सिलसिला आरम्भ हो जाता है। कई बार हाँ इतने अधिक फट जाते हैं कि उसमें दरारे तक पड़ जाती हैं। होठों को कटने फटने से कैसे सुरक्षित रखें। आइये इस सन्दर्भ में कुछ महत्त्वपूर्ण टिप्स बताते हैं :

1. विटामिन ' ए ' और ' बी ' की कमी से उत्पन्न होंठों के फटने की समस्या को भोजन में सुधार कर दूर किया जा सकता है। खाने में अधिक हरी सब्जियाँ, मौसम के अनुसार कुछ फल, मक्खन, दूध, शहद आदि लेने से शरीर में विटामिनों की पूर्ति होती है।

2 . सोयाबीन एवं विभिन्न दालों के सेवन से होंठ नहीं फटते तथा होठों पर एक तरह की ताजगी रहती है।

3 . भोजन के उपरान्त होंठों को अच्छी तरह धोकर साफ मुलायम तौलिये से हल्के हाथ से पौछिये।

4 . रात्रि में सोने से पूर्व दो चम्मच कैस्टर ऑयल में दो चम्मच बोरिक वैसलिन मिलाकर होठों पर लगाने से लाभ होता है।

5 . ग्लिसरीन तथा गुलाबजल को बराबर मात्रा में लगाने से भी होंठ सुरक्षित रहते हैं।

6 . फटे होंठों पर ताजी गुलाब की पत्तियों का रस लगाने से लाभ होता है तथा होठों पर प्राकृतिक सौन्दर्य में वृद्धि होती है।

7. होंठों पर पड़ी पपड़ियों को नोचना नहीं चाहिए अन्यथा लगता है। ऐसे में प्राकृतिक शहद में गुलाबजल मिलाकर होठों पर लगाने से आशातीत लाभ होता है।

8 . शहद की चार-पाँच बूंदों में दो-तीन बूंद गरम जल मिलाकर होंठों पर लगाने से लाभ होता है।

9 . जैतून का तेल रूई में भिगोकर हल्के-हल्के से होंठों पर मलने से होंठ खुरदरे होने व फटने से बचते हैं।

10 . मक्खन में शुद्ध केसर मिलाकर लेप करने से न केवल होठों की पपड़ियाँ दूर होती हैं, बल्कि होठों पर गुलाबी झलक भी आती है।

11. गर्म दूध की मलाई का लेप करने से कटे-फटे होंठ ताजा गुलाब की पंखुड़ियों की भाँति खिल उठते हैं।

12. लिपस्टिक सदैव अच्छी क्वालिटी की ही प्रयोग करें, अन्यथा त्वचा पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। लिपस्टिक लगाने से पूर्व होठों से अच्छी तरह साफ कर लें ताकि धूल या मैल साफ हो जाये।

13. सप्ताह में एक बार होठों पर मलाई, शहद और नींबू लगायें। 10 मिनट बाद धो डालें। होठ मुलायम रहेंगे और उनकी चमक बरकरार रहेगी।

लिपस्टिक का चयन कैसे करें- सौन्दर्य के प्रति जागरूक प्रत्येक स्त्री के लिए यह ज्ञान आवश्यक है कि उसके होठों की बनावट, उसके शरीर का वर्ण और वस्त्र आदि के अनुसार उसे किस रंग की लिपस्टिक लगानी चाहिए। हाँठों की शोभा के लिए लिपस्टिक का चुनाव करते समय आयु बालों, वस्त्रों और शरीर के रंग की ओर विशेष ध्यान देना चाहिए। अन्यथा जरा सी लापरवाही आपकी सुन्दरता को बिगाड़ सकती है। शृंगार प्रसाधनों में लिपस्टिक सहायक सिद्ध होती है। यदि स्त्री को यह ज्ञान हो कि वहयाम देखने में सुन्दर व आकर्षक लगती है तो उसमें स्वाभिमान और आत्मविश्वास I ध्यान में रखना चाहिए-

होंठ कैसे बनाएं स्वस्थ, सुन्दर और गुलाबी

( क )

1. लिपस्टिक के रंग का चुनाव आयु, अवसर और वस्त्रों के अनुरूप करना चाहिए।

2 . किशोरियों को सदैव नैचुरल शेड़ प्रयोग करना चाहिए इससे उनका प्राकृतिक सौन्दर्य द्विगुणीत हो जाता है।

3 . नौकरी पेशा महिलाओं को कार्यालयों में बहुत गहरे रंग की लिपस्टिक का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इसी प्रकार प्रौढ़ावस्था में हल्के रंग की लिपस्टिक का प्रयोग करना चाहिए।

4 . युवतियों का प्राय : गुलाबी या मिलते-जुलते रंगों की लिपस्टिक उपयोग में लानी चाहिए।

5 . लिपस्टिक का प्रयोग वस्त्रों के रंग को ध्यान में रखकर करना चाहिए।

( ख )

1 . लिपस्टिक का चयन करते समय वर्ण और मौसम को भी ध्यान में रखना आवश्यक है। गोरी स्त्रियों के होठों पर लालिमा अधिक पायी जाती है। परन्तु गेहुएँ एवं श्याम रंग की स्त्रियों के होंठ सुन्दर तथा भी प्रायः रक्त रहित दिखाई देते हैं।

2. सर्दियों में कुछ गहरे उपयुक्त रहता है जैसे-नारंगी रंग के वस्त्रों के साथ नारंगी और गुलाबी रंग के वस्त्रों के-साथ गुलाबी लिपस्टिक लगानी चाहिए। कुछ रंग के वस्त्रों के साथ मैच करती लिपस्टिक का चुनाव थोड़ा कठिन होता है फिर भी जहाँ तक हो सके वस्त्रों के रंगों का तथा लिपस्टिक के रंग का ताल-मेल बैठाना चाहिए। इसी तरह के होठों स्वस्थ होते . को सुन्दर व स्वस्थ प्रदर्शित करने के लिए प्राय : लिपस्टिक का प्रयोग करते हैं। गोरे वर्ण की स्त्रियों पर अधिकतर सभी रंग फब जाते हैं परन्तु श्याम वर्ण की स्त्रियों को हल्के रंग ही शोभा देते हैं। और गर्मियों में हल्के रंग की लिपस्टिक का प्रयोग किया जा सकता है।
( ग )

1 . लिपस्टिक का चयन होंठों के आकार व प्रकार पर सबसे अधिक निर्भर करता है। यदि आपके होंठ अधिक मोटे हैं तो गहरे व तेज शेड की लिपस्टिक का प्रयोग आपके लिए उचित होगा।

2 . सामान्य से मोटे तथा कुछ लटकते होठों के लिए नैचुरल शेडों का चयन किया जा सकता है पतले होंठों पर सादी पिलस्टिक का प्रयोग करें सामान्य होंठों के लिए भड़कीले, तेज तथा गहरे शेडों का भी प्रयोग किया जा सकता

( घ )

नेत्रों के रंग पर भी लिपस्टिक का चुनाव निर्भर करता है। तब लिपस्टिक का उचित उपयोग कर सकतें हैं।
( ङ )

बालों के अनुरूप भी लिपस्टिक का चयन किया जा सकता है। जैसे-काले बालों वाली स्त्री पर नारंगी रंग सफेद बालों वाली पर गुलाबी और सुनहरे बालों वाली स्त्री पर लाखें रंग की लिपस्टिक अच्छी लगती है।

लिपस्टिक का उपयोग : लिपस्टिक अधरों का सौंदर्य प्रदान करने के उद्देश्य से लगाई जाती है। परन्तु यदि उसे सुघड़ता न लगाया जाये तो चेहरा भद्दा और उस पर फूहड़पन झलकता है। लिपस्टिक लगाने के पश्चात् होंठ सुन्दर लगें और वह अधिक समय तक लगी रहे इसके लिए आवश्यक है कि होंठ साफ-सुथरें हों कटे-फटे ना हो। लिपस्टिक लगाने से पूर्व क्लीजिंग मिल्क को थोड़ी-सी रूई पर लगाकर होंठों पर मलें, इससे होंठ साफ हो जाते हैं। होंठ साफ करने के पश्चात् फाउण्डेशन क्रीम लगायें, थोड़ी देर सूखने दे फिर लिपस्टिक लगायें। लिपस्टिक लगाने से पूर्व होठों पर फाउण्डेशन और कंसीलर लगाना न भूलें।

1. यदि होंठ कटे-फटे हो तो लिपवैरिया क्रीम लगाये। इसके बाद टिश्यू पेपर को दोनों होंठों के बीच में दबायें। इससे फालतू क्रीम टिश्यू पेपर पर आ जाती है। इसके बाद पाउडर छिड़ककर होंठों को ड्राई कर लें फिर लिपस्टिक लगाएँ।

2. होंठों के आकार को देखते हुए पहले होंठों पर आउट लाइन खींच ल फिर बुश की सहायता से लिपस्टिक लगाये।

3. याद आपके होंठ मोटे हैं तो उन्हें सन्तुलित करने के लिए होंठ के अन्दर की ओर रेखा बनायें। बचे हुए हिस्से पर फाण्डडेशन लगायें।

4. यदि होंठ पतले हों तो स्वाभाविक रेखा से थोड़ा बाहर की ओर रेखा खीचें। इसके अतिरिक्त ऊपरी होंठ पर हल्की तथा नीचे के होंठ पर गहरी लिपस्टिक लगायें। ऐसा करने से होंठ थोड़े बड़े दिखते हैं।

5. पतले होंठों पर सदैव लाइट शेड वाली लिपस्टिक लगायें क्योंकि डार्क शेड की लिपस्टिक लगाने से होंठ पतले दिखाई देते हैं।

6. असमान्य आकार के होठों को चेहरे के अनुकूल आकार देने के लिए इअनुसार आउटलाइन बनाकर लिपस्टिक भरने से होठों को नया आकार दिया जा सकता है।

7. खड़े होकर लिपस्टिक लगाते समय प्रायः हाथ हिल जाते हैं। जिससे फैलने का डर रहता है। दर्पण के सामने शृंगार मेज पर कुहनी टिकाकर लिपस्टिक अच्छी तरह बिना व्यावधान के सन्तुलन बनाकर लगायी जा सकती है।

8. यदि लिपस्टिक फैल जाये तो होंठों पर पहले पाउडर लगाकर लिपस्टिक सुखा लें, फिर लिपस्टिक लगायें।

9. पहले ऊपर के होंठ पर और बाद में नीचे के होंठ पर लिपस्टिक लगानी चाहिए।

10. क्रमश : हल्के और गहरे रंग की लिपस्टिक का प्रयोग होंठों को बेहतर सौन्दर्य प्रदान करता है। पहले हल्के की लिपस्टिक लगायें फिर छुड़ा दें। दोनों होठों के बीच टिश्यू पेपर रखकर अनावश्यक लिपस्टिक फिर गहरे रंग की लिपस्टिक लगायें। दोनों रंगों को एक-सा करने के लिए दो कोट लगाये जा सकते हैं।

11. लिपस्टिक लगाने के पश्चात् होंठों पर लिपग्लास अथवा जरासी वैसलीन क्रीम लगा देने से होंठों पर चमक आ जाती है।

12. कभी भी पुरानी लिपस्टिक पर नई लिपस्टिक का प्रयोग न करें अन्यथा लिपस्टिक में एकरूपता व चमक नहीं आ पायेगी।

13. सदैव उत्तम किस्म की लिपस्टिक होठों की कोमल व नम्र त्वचा को नुकसान सदैव उत्तम किस्म की लिपस्टिक प्रयोग में लायें अन्यथा सस्ती और पहुंचा सकती है।

14. होंठों पे लगी लिपस्टिक छुड़ाने के लिए लिपस्टिक रिमूवर का उपयोग करें। इससे होंठों की त्वचा की भीतर तक जमी लिपस्टिक साफ हो जाती है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ