Bridal: विवाह से पूर्व दुलहन के लिए सौन्दर्य निखारने के उपाय

bridal beauty tips


विवाह से पूर्व सौन्दर्य निखार विवाह का अवसर एक ऐसा अवसर है जो प्रत्येक ब्राइडल के जीवन में महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। ' फस्ट एम्प्रेशन ' की बात यहाँ सबसे अधिक महत्व रखती है। प्रत्येक ब्राइडल की इच्छा होती है कि इस अवसर पर वह अधिकाधिक सुन्दर लगे। यह सोचना गलत है कि सौन्दर्य प्रसाधनों के प्रयोग से चेहरा एकाएक खिल उठेगा शृंगार प्रसाधनों के अधिक प्रयोग से प्राकृतिक सौन्दर्य समाप्त हो जाता है। अतः प्राकृतिक सौन्दर्य को बनाये रखने के लिए विवाह से लगभग दो महीने पूर्व हीं अपने सौन्दर्य के प्रति सजग हो जाना चाहिए। सप्ताह में एक बार चेहरे पर फेशियल करवाने से दो महीने के इस अवधि में आपकी त्वचा का रंग अपेक्षाकृत साफ हो जाता है। ( फेशियल क्रिया पीछे दी जा चुकी है।

शादी के दिन का मेकअप बारात आने के कुछ घण्टे पहले, मेकअप शुरू करने से पहले साड़ी के साथ का पेटीकोट और ब्लाऊज पहन लें। यह खराब न होने पाये इसलिए उनके ऊपर हाऊस कोट पहनना ठीक रहेगा। सबसे पहले सुगंधित साबुन से मल-मलकर नहा लेना चाहिए। नहाने के पानी में ड्यूडोरेन्ट लगाएं-इससे पसीना नहीं आयेगा और दुर्गन्ध नहीं फैलेगी। रूई के फाहे पर क्लीनजिंग चेहरे, कान गर्दन पर मलें, इससे चेहरे की धूल-मिट्टी साफ हो जायेगी इसके बाद स्किन टॉनिक ( सामान्य त्वचा ) एंस्ट्रीजेन्ट ( तैलीय ) और माश्चराइजर ( सूखी त्वचा ) अपनी त्वचा के अनुसार लगाएं।

क्लीनजिंग मिल्क से त्वचा के जो रोम खुले हुए थे वह इससे बन्द हो जायेंगे। इस तरह वे प्रसाधन त्वचा के भीतर प्रवेश नहीं कर पायेंगे, जो त्वचा को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं। इसके बाद पाउण्डेशन को गर्दन से ऊपर की ओर लगाना शुरू करें-फाउण्डेशन का रंग न बहुत हल्का के मेल का ही चुनें। फाउण्डेशन को बालों, कानों और माथे की रेखा तक न बहुत गहरा। इसे हमेशा, त्वचा लगाएं। कोई भाग छूट गया तो बाद में भद्दा दिखेगा। आंखों के चारों ओर इसे बिल्कुल न लगाएं।

अब रूज को दोनों बगलों, कानों और माथे की रेखा तक लगाएं, चक्कियां लगाकर फैला लें। रात के मेकअप में इसकी गहरी और दिन में हल्की शेड अच्छी लगती है। पाऊडर भी चेहरे पर थपथपा लें-अगर आपकी हल्की और छितरी हैं तो उन्हें आई ब्रो पेंसिल से गहरा करा लेना चाहिए। यदि रंग काला है तो नीला, अगर गेहुंआ या गोरा है तो हरा या नीला कोई भी आईशैडो लगा सकती हैं। लहंगा या साड़ी हरे रंग की पहन रही हों तो आप कोशिश करें कि आईशैडो हरा हो।

पलकों के बालों की बरौनियों को लम्बा और गहरा दिखाने के लिए मस्करा लगाया जाता है। इसे हमेशा अपने बालों के रंग के रंग की ही चुनें। तरल घोल होता है, इसे ब्रुश से ऊपर की बरौनी पर ऊपर की तरफ और नीचे वाली को नीचे की तरफ हाथ रखकर लगायें मस्कारे के पश्चात् आईलाइनर से बरौनियों के साथ-साथ सटी हुई रेखाएं बना लें। इससे आंखें बड़ी व चमकीली लगती हैं।

आंखों के चारों ओर आईलाइनर लगाने से नेत्रों का सुन्दर आकार आंखों के चारों ओर आई ब्रो पेंसिल से भी आईलाइनर का काम किया जा सकता आईलाइनर तरल घोल के रूप में होता है। इसे ब्रुश से लगाया जाता है। जैसा कपड़ों का रंग हो, वैसी ही बिन्दी लगाएं। रानी के रंग के कपड़ों रंग की, लाल रंग पर गुलाबी या लाल, कत्थई रंग की दिक है। वैसे लाल रंग की बिन्दी हर चेहरे पर जंच जायेगी।

कपड़े का रंग लाल रखें। यह इस दिन सब पर अच्छा लगता है। सांवले रंग की लड़कियां अपने लिए कत्थई रंग की साड़ी या लहंगा बनवायें। गोरे रंग पर लाल गुलाबी, रानी व कत्थई भी रंग जंच जायेगा, फिर भी इन सबमें लाल रंग को ही प्राथमिकता देनी चाहिए। साड़ी को सुनहरी सेफ्टीपिनों से अच्छी तरह टांक लें, वरना यह बार बार खिसकेगी, जिससे वधू को असुविधा होगी। अगर वह साड़ी पहनने की अभ्यस्त नहीं है तो वह उससे मेलखाता गोट-किनारी वाला दुपट्टा भी सिर पर ओढ़ सकती हैं। 
साड़ी का पल्ला पीछे डालकर ऊपर से दुपट्टे से सिर ढक लें। इस तरह साड़ी पहनते हुए भी बहुत आराम होगा। लहंगे का दुपट्टा बहुत बड़ा नहीं बनवायें इसे-अच्छी तरह पिनअप कर लें-पतली और लम्बी लड़कियों के लिए लहंगा-दुपट्टा बढ़िया पोशाक है।
होठों की, लिप बुश से बाह्य रेखा बनाते हुए उसमें लिपिस्टक का रंग भर दें चौड़े होंठ हों तो उनके बाहरी भाग को फाउण्डेशन से ढककर, पतले होंठों पर कुछ बाहर तक रेखा खींचकर लिपिस्टिक लगानी चाहिए।

कटे-फटे होंठ हों तो उन पर लिपिस्टक से पहले चैपस्टिक लगा लें। काले होठों पर पहले सफेद रंग की, फिर उन पर मनचाहे रंग की लिपिस्टिक लगाएं। लिपिस्टिक का रंग कपड़ों के रंग से मेलखाता होना चाहिए। साड़ी के साथ पफ लगाकर, ऊंचा सादा जूड़ा बनाना चाहिए। छोटा कद है तो जूड़े को ऊंचाई पर बनाएं, लम्बा कद हो तो जूड़े को नीचाई पर रख सकती हैं। जूड़े पर फूलों का गजरा लगा लें। इसके बिना बनाया शृंगार अधूरा रह जाता है।

इससे अतिरिक्त निम्नलिखित बातों पर ध्यान दें:

1. तिल या जैतून के तेल से शरीर की नियमित मालिश करायें। तथा रात्रि में सोने से पूर्व चेहरे की डीप क्लीजिंग कर हल्के हाथ से मालिश करने से चेहरे की त्वचा खिल उठती है। इससे त्वचा की माँसपेशियों में रक्त संचार क्रिया तीव्र होने से त्वचा कोमल, पुष्ट और आकर्षक होती है।

2. शुष्क त्वचा होने पर साबुन का प्रयोग बिल्कुल न करें अन्यथा त्वचा फट जाने से अथवा श्वेत दाग पड़ने का डर रहता है। चेहरे पर प्रतिदिन फेसफैक का प्रयोग करें।

3. चेहरे की त्वचा आदि तैलीय हो तो जौ के आटे में थोड़ा नींबू रस मिलाकर रगड़िये, इससे विवाह से पूर्व चेहरे पर मुँहासे होने का भय नहीं रहता तथा तले खाद्य पदार्थ व अधिक मिर्च मसालेयुक्त भोजन का सेवन बन्द कर दें।

4. प्रतिदिन स्नान के समय उबटन का प्रयोग करें।

5. हस्त सौन्दर्य के लिए विवाह से लगभग एक-दो महीने पूर्व कपड़े, धोना, बर्तन साफ करना बंद कर दें। रात्रि में सोने से पूर्व नियमित रूप से उँगलियों पर कोल्ड क्रीम अथवा क्यूटिकल क्रीम से मालिश अवश्य करनी चाहिए। हथेली पर एक चम्मच चीनी और नींबू का रस डालकर दोनों हथेलियों को परस्पर चीनी घुल जाने तक मलिये। चीनी के स्थान पर शहद का उपयोग विशेष लाभप्रद है। इसका प्रयोग कुहनियों पर भी करें।

6. रात को शीघ्र सो जायें। इससे मानसिक तनाव की स्थिति उत्पन्न नहीं होती।

7. चेहरे व शरीर आदि की ब्लीचिंग आदि भी दो दिन पूर्व करा लें।

8. थ्रैडिंग कम-से-कम या दो दिन पूर्व करा लेनी चाहिए।

9. शजिनके सफेद बालों की समस्या नहीं है। उन्हें विवाह से तीन-चार दिन पूर्व बालों में मेहंदी का प्रयोग करना चाहिए इससे बालों को कंडीशनिंग मिलेगी।

10. यदि सफेद बालों की समस्या हो तो एक सप्ताह पूर्व ही काली मेंहदी लगाकर चार घण्टे बाद धोयें। मेंहदी का लेप एक या दो दिन के अन्तराल से निरन्तर चार-पाँच बार करें ताकि बालों की सफेदी बिल्कुल ढक जाये।

11. मैनीक्योर व पैडीक्योर मेहंदी रचाने से एकदिन पूर्व करा लेना चाहिए।

ब्राइडल मेकअप विधि:

चेहरे पर क्रीम मलें-मुंहासों वाले चेहरे पर ब्लीचिंग न करें-अगर ब्लीचिंग लगाते ही जलन होने लगे तो उसे फौरन साफ कर लें और फिर भविष्य में इसे कभी न लगायें।

बाहों और टांगों के अनावश्यक बाल बढ़े हुए लगे तो वक्सीन कर लेनी चाहिए, इसमें लोहे की पतली पट्टी से वैक्स को फैलाया जाता है। उस पर कपड़ा रखकर बालों को विपरीत दिशा में नोच लें। वैक्सीन हमेशा थोड़ी-थोड़ी लगाकर की जाती है। इससे बाल साफ हो जाते हैं और त्वचा कोमल और साफ-सुथरी दिखती है। बगलों पर भी वैक्सीन कर लें। भौंहों को थ्रेडिंग से संवरवा लें-इससे चेहरा आकर्षक हो उठेगा। थ्रेडिंग व वैक्सीनिंग स्वयं भी कर सकती हैं। यदि तरीका नहीं आता तो ब्यूटी पार्लर में ही करवाएं।

हाथों की सफाई को मैनीक्योर और पैरों की सफाई को पैडीक्योर कहते हैं। मैनीक्योर वाक्स, इसे आप स्वयं कर सकती हैं।नाखूनों पर लगी नेलपॉलिश को नेलपॉलिश रिमूवर से उतार दें, इसके बाद नाखून अण्डाकर काटें, लेकिन पैर के नाखून गोल ही रखें। हर नाखून पर क्रीम मलें। आरेंज स्टिक से नाखून साफ करें-और फिर साबुन मलें। गर्म पानी में हाथ डुबोकर रूई के फाहे से नाखूनों का मैल और चिकनाहट साफ कर लें। इसके बाद सीधे हाथ और उल्टे हाथ की अंगुलियों पर नेलपॉलिश लगाएं।

इसके साथ ही आप अपने पेट का ध्यान रखें, कहीं कब्ज न हो जाये। स्वस्थ रहेंगी तो चेहरे पर ताजगी बनी रहेंगी-नींद बहुत जरूरी है, नहीं तो थकानभरा चेहरा शादी वाले दिन उदासीन दिखेगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ