अंजीर के फायदे - अंजीर खाने का तरीका और फायदे

अंजीर के फायदे

अंजीर के प्रकार एक जंगली और दूसरी काश्त की हुई।

ताजा और खुशक अंजीर के ग़िज़ायी आज्ज़

अंजीर पोटेशियम, प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस और विटामिन ए और सी से भरपूर होता है।  विटामिन बी और डी भी कम मात्रा में दिया जाता है। अंजीर में पर्याप्त मात्रा में पानी है।  हालांकि इसमें प्रोटीन और वसा की मात्रा बहुत कम होती है।  खुशक अंजीर की अफदियत ताजा फल की निस्बत ज़ियादा होती है।  चीनी सबसे अधिक मांग वाली वस्तुओं में से एक है, जो 51 से 64% तक हो सकती है।

ताजा अंजीर 100 ग्राम खुष्क अंजीर 100 ग्राम पानी 88.1% 23% प्रोटीन 1.3% 4.3% वसा 0.2% 1.3% कार्बोहाइड्रेट 7.6% 63.4% फाइबर 2.2% 5.6% मदनियत 0.2% 2.4%

अंजीर के फायदे असंख्य हैं।  मूड के लिहाज से अंजीर गरम और तार होती है।  यह सर्वोत्तम प्रकार का धर्म है।  यह औषधि उपचार और उपचार भी करती है।  बिना घोड़े से बेहतर गरीब घोड़ा। कमजोर लॉगऑन के लिए अंजीर एक अमूल्य संसाधन है। जिस्म से चेहरा बेहतर और स्वस्थ दिख सकता है।  यह उपचार का एक रूप है, यह थकान और शारीरिक थकावट से छुटकारा पाने का एक तरीका है। गुरदों और मसाने को साफ करती है।  यदि आप इस बुरे स्वभाव से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो आपको बाडीपन, पैत, सांस और खून की बुरी आदतों से छुटकारा पाना होगा।

सामान्य तौर पर इसका प्रयोग शारीरिक दुर्बलता और मनोभ्रंश की स्थिति में लाभकारी होता है।  बुखार के मामले में, जब मैं बार-बार खुश महसूस करता हूं, तो इस भगवान को अपने मुंह में रखना बहुत फायदेमंद होता है।

ये हैं अंजीर के फायदे

अंजीर को निहार मुँह खाना सब से ज़्यादा फ़यदमंद होता ही। अगर इसे बादाम और अखरोट के साथ मिलाकर इस्तेमाल किया जाए तो यह आपको खतरनाक जहर से बचा सकता है। रक्त से विषाक्त पदार्थों हटाकर और रक्तचाप  सामान्य करता है। अंजीर पाथरी के बारे में कुछ नहीं बताता।  उसने गुरदोन, मसाने और पित से पत्थरों को हटाता है। इस उद्देश्य के लिए निहार मुंह रोज़ाना इस्के चंद दाने कलवांजी के या सिरफ कलवांजी के साथ खाना चाहिए।

हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए भी यह बहुत मददगार है। अव्यवस्था से छुटकारा पाने का यही एकमात्र तरीका है जिसकी आपको आवश्यकता नहीं है। अगर आप रोज सुबह नाश्ते में  7 बादाम बादाम और अखरोट के साथ खाते हैं तो आपको इस शिकायत से छुटकारा मिल जाएगा।

अंजीर को दूध में डालकर भी इस्तेमाल कर सकतें हैं।

अंजीर खुशक हो या ताजा, दोनो सुरतो में इस्तेमाल कर सकतें इसके अलावा, यह पेट  को साफ सुथरा रखने में मदद करता है। अंजीर को कुछ घंटों के लिए पानी में भिगोकर कुछ घंटों के लिए रख दें।  जब वो फूल जाएं तो 2 बार नोश करें। अगर आप इसे रात भर पानी में भिगोकर रखेंगे तो यह सुबह खाएं अभी खाया जाए ।

सर्दियों के मौसम में खुश्क अंजीर  नाशोनुमा बहुत उपयोगी होती है।

इसके नियमित उपयोग से कुलंज नियंत्रित रहता है। मरदाना कमज़ोरी का उपयोग बादाम और खजूर जैसे अन्य सूखे मेवों के संयोजन में भी किया जाता है।

अंजीर के कुछ और फायदे

इसका उपयोग खांसी, बलघम और दामा में भी किया जाता है।  कहानी आगे कहती है कि बालघम अपने गांजा के लिए प्रसिद्ध था।

ये काबिल ए हज़म फल फुज़लात को ख़रीज करता ही।  जिगर और तिल के सदनों को खोलता ही।  इसके शेष प्रयोग से सांसों की दुर्गंध भी दूर हो जाती है।

यह शानदार फल के चंद दाने दैनिक खाने से कमर का दर्द खतम हो जाता है।  जबके इस को अखरोट के साथ खाने से फलिज का खतरा तल जाता है।

अंजीर को सिरके में एक हफ्ते के लिए रख दें।  अब खाना खाने के खराब 2 या 3 खाने खाने से टिल्ली का कीड़ा दूर हो जाता है। अंजेर को भीगो कर खाने से ये ज़ूड हाज़म हो जाती है।  हालाँकि, पानी में भिगोए हुए पानी को भी पीना चाहिए क्योंकि इसमें बहुत सारा पानी होता है।

बावसीर में अंजीर का उपयोग कैसे करें

अंजीर बावसीर  रोजाना खाने से पुराना बावसीर भी नष्ट होने वाला है। बावसीर में दर्द ज्यादा हो तो 5 चम्मच अंजीर के भोजन को रोज सुबह 1 गिलास शेहेड़ के साथ एक गिलास पानी में मिलाकर सेवन करें।  अगर इस काम को हल्के में लिया जाए तो अल्लाह के पहले महीने में बवसीर की भीड़ खुश हो जाएगी।  यह अभ्यास खूनी बावसीर के मारेजो के लिए भी फायदेमंद होता है। अगर गांजा ज्यादा खराब हो तो भोजन से 3 दिन पहले अंजीर को खिलाएं।  और अगर पेट में भारीपन महसूस हो रहा है तो 3 दिन खाने के बाद अंजीर का सेवन करना चाहिए।


 अंजीर के लाभ आपको इसे अपनी दिनचर्या का अनिवार्य हिस्सा बनाने के लिए आमंत्रित करते हैं।

अंजीर, सूखे मेवों का प्रमुख, जिसके लाभ दैनिक उपयोग के लिए मजबूर होंगे, अंजीर को स्वर्ग का फल कहा जाता है।  यह एक बहुत ही स्वस्थ फल है और इसमें वे सभी तत्व होते हैं जो किसी व्यक्ति को स्वस्थ रखने और उसे बीमारियों से बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।  यह फल साल भर हर जगह आसानी से मिल जाता है। अंजीर कमजोरों के लिए एक अमूल्य वरदान है। इसके नियमित सेवन से कमजोर वसा बनता है। यह श्वसन रोगों के लिए एक उत्कृष्ट दवा है। यह शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध को कम करता है। इस तरह रक्त शर्करा स्तर संयम में रहता है।  जिन लोगों में सेलेनियम नामक यौगिक की कमी होती है उन्हें मीठे खाद्य पदार्थों की अधिक आवश्यकता होती है। अंजीर में सेलेनियम होता है। इसका नियमित उपयोग मिठाई की आवश्यकता को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।  अंजीर एक सदाबहार फल है जिसके कई फायदे हैं।  इस छोटी सी कहानी में जानें कि कैसे अंजीर एक सुपरफूड है।

 जोड़ो और हड्डियों के दर्द से छुटकारा

अंजीर जोड़ों और हड्डियों के दर्द के लिए सबसे अच्छा उपाय है।  विधि यह है कि दो अंजीर रात भर जैतून के तेल में भिगो दें और सुबह उन्हें छील लें।  कुछ ही दिनों में मांसपेशियों में ऐंठन, हड्डियों का दर्द, ऐंठन और जोड़ों का दर्द काफी कम हो जाएगा।

कब्ज के लिए सबसे अच्छा प्राकृतिक उपाय

अंजीर एक कब्जकारी फल है जिसकी उपयोगिता ऐतिहासिक रूप से सिद्ध हो चुकी है।  रात को दो अंजीर पानी में भिगोकर सुबह चबा लें।  कुछ ही दिनों में कब्ज दूर हो जाएगी।

रक्तचाप कम करने का सबसे अच्छा नुस्खा

अंजीर के सेवन से रक्तचाप सामान्य रहता है।  ऐसा इसलिए है क्योंकि अंजीर पोटेशियम से भरपूर होता है।  पोटेशियम रक्त परिसंचरण को विनियमित करने में मदद करता है। विशेषज्ञ अंजीर को भिगोने की सलाह देते हैं क्योंकि सूखे अंजीर आमतौर पर पाए जाते हैं, जिनमें से 80% निर्जलित होते हैं।  इसलिए जरूरी है कि अंजीर को पानी में भिगोकर उसका इस्तेमाल करें।

अंजीर दिल के लिए अच्छे होते हैं

अंजीर के नियमित सेवन से दिल मजबूत और ऊर्जावान रहता है।  इसमें कई तरह के तत्व होते हैं जो दिल को स्वस्थ रखते हैं।

अंजीर और आंतों की सफाई

अंजीर आंतों को साफ करने में अहम भूमिका निभाते हैं।  यह विषहरण की प्रक्रिया को तेज करता है और इस प्रकार पूरे पाचन तंत्र को मजबूत करता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ